Formal Latter In Hindi Meaning Definition Types Example -औपचारिक पत्र फॉर्मेट इन हिन्दी

अगर आप कक्षा छठवीं से लेकर कक्षा बारहवीं तक के विद्यार्थी हैं तो आपको किसी कारण से स्कूल से अवकाश लेने के लिए Formal letter in hindi औपचारिक पत्र लिखना होता है और अगर आप सरकारी नौकरी जैसे यूपीएससी या फिर पीसीएस और स्टेट लेवल एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं तो आपसे Formal letter in hindi औपचारिक पत्र के बारे में भी बहुत कुछ पूछा जाता है।

आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Formal letter in hindi औपचारिक पत्र फॉर्मेट के बारे में सारी जानकारी विस्तार से समझाने वाले हैं और यह आर्टिकल आपके एग्जाम और स्कूल की छुट्टी के लिए बहुत काम आ सकता है।

Advertisement

आप इस लेख के माध्यम से Formal letter in hindi औपचारिक पत्र फॉर्मेट को अच्छे से समझ सकते हैं। अगर आपको aupcharik Patra लिखना नहीं आता है तो आपको इस आर्टिकल से काफी मदद मिल सकती है हम इस आर्टिकल पर आपको औपचारिक पत्र से संबंधित अन्य जानकारियां भी देने वाले हैं।

Formal letter in hindi औपचारिक पत्र फॉर्मेट का इस्तेमाल सभी विद्यार्थी और सरकारी नौकरी कर रहे लोग करते हैं। औपचारिक पत्र सभी के लिए आवश्यक होता है। अगर आप बोर्ड एग्जाम या फिर किसी बड़े एग्जाम के लिए औपचारिक पत्र लिखने जा रहे हैं तो आपको जानकारी होनी चाहिए कि आप पत्र सही से लिख रहे हैं या नहीं।

कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि टेक्नोलॉजी के परिवर्तन के कारण और शिक्षा के क्षेत्र में जिस प्रकार से टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल हो रहा है उसे देखते हुए

Formal letter in hindi औपचारिक पत्र फॉर्मेट की आवश्यकता नहीं है। आपकी जानकारी के लिए बता दूं जब किसी स्टूडेंट को छुट्टी लेनी होती है या फिर किसी अधिकारी को छुट्टी लेनी होती है तो ईमेल के माध्यम से छुट्टी नहीं ले सकता उसके लिए उसे Formal letter in hindi औपचारिक पत्र लिखना आवश्यक होगा।

कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें औपचारिक पत्र लिखना बहुत ही पसंद है क्योंकि औपचारिक पत्र के माध्यम से हम अपने दोस्तों और मित्रों से संपर्क बनाए रख सकते हैं।

आज के समय में Formal letter in hindi औपचारिक पत्र फॉर्मेट केवल स्कूली और कार्यालय के लिए उपयोगी माना जाता है क्योंकि असल जिंदगी में हम लोग औपचारिक पत्र का इस्तेमाल करते हैं।

Advertisement

ये भी पढ़ें

Conclusion का हिंदी मीनिंग- Conclusion meaning in hindi

जानिए औपचारिक पत्र क्या होता है in Hindi – Formal letter in hindi kya hai

औपचारिक पत्र उस पत्र को कहते हैं जिसमें व्यक्ति के निजी संबंध नहीं होते हैं। यहां पर व्यक्ति सार्वजनिक रूप से एक पत्र लिखता है। औपचारिक पत्र के माध्यम से आप सरकारी कार्यालय और किसी न्यूज़पेपर संपादक के लिए पत्र लिख सकते हैं। औपचारिक पत्र का इस्तेमाल प्रमुख रूप से स्कूली विद्यार्थी और सरकारी कर्मचारियों के द्वारा किया जाता।

औपचारिक पत्र एक प्रकार से सार्वजनिक पात्र होते हैं क्योंकि हम इन पत्र को व्यक्तिगत रुप से नहीं लिख सकते है। जिस प्रकार से अनौपचारिक पत्र में व्यक्तिगत बातों को शामिल करते हैं लेकिन औपचारिक पत्र में कभी भी व्यक्तिगत बात को शामिल नहीं किया जा सकता।

पत्र लेखन के प्रकार

औपचारिक पत्र लिखने से पहले आपको पत्र लेखन के बारे में भी पता होना चाहिए स्टूडेंट की जानकारी के लिए बता दूं पत्र लेखन दो प्रकार के होते हैं।

1औपचारिक पत्र

2 अनौपचारिक पत्र

ऊपर आपको Formal letter in hindi औपचारिक पत्र के बारे में बता दिया गया है और आपकी जानकारी के लिए बता दो अनौपचारिक पत्र कहते हैं जो हम व्यक्तिगत रूप से अपने भाई बहन, मामा मामी, रिश्तेदारों और अपने दोस्तों को लिखते हैं इसमें हम व्यक्तिगत रूप से अपनी सारी जानकारियों को शामिल कर सकते हैं।

Aupcharik Patra ke bhag  (Formal letter in hindi के भाग) औपचारिक पत्र के प्रकार

औपचारिक पत्र को भी पत्र लेखन की तरह तीन भागों में विभाजित किया गया है। औपचारिक पत्र को व्यक्ति तीन प्रकार से लिख सकता है जैसे प्रार्थना पत्र, कार्यालय पत्र और व्यापारिक पत्र।

1 औपचारिक पत्र में प्रार्थना पत्र

औपचारिक पत्र में प्रार्थना पत्र के अंदर व्यक्ति निवेदन करता है उदाहरण के लिए प्रार्थना पत्र का प्रयोग स्टूडेंट छुट्टी मांगने के लिए करते हैं इसमें अवकाश का निवेदन किया जाता है।

2 औपचारिक पत्र में कार्यालय पत्र

औपचारिक पत्र में कार्यालय पत्र के अंदर किसी विषय पर शिकायत करने के लिए उदाहरण के लिए पानी की समस्या में जिला अधिकारी को पत्र।

3 औपचारिक पत्र में व्यापारिक पत्र

औपचारिक पत्र के अंदर व्यापारिक पत्र को भी शामिल किया गया है। इसके अंदर व्यापारी सामान खरीदने और बेचने के लिए एक पत्र लिखता है। 

औपचारिक पत्र में लिखने के लिए प्रमुख बिंदु – Formal letter in hindi

1aupcharik Patra लिखने से पहले आपको प्रमुख बिंदुओं के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए औपचारिक पत्र लिखते समय बहुत सारे बिंदुओं का इस्तेमाल किया जाता है जो आपको नीचे स्टेप बाय स्टेप बताया जाएगा।

1 औपचारिक पत्र में सबसे ऊपर स्थान और भेजने का स्थान एवं दिनांक

जब भी आप कोई औपचारिक पत्र लिखते हैं तो आपको सबसे ऊपर स्थान और दिनांक के बारे में जानकारी लिखनी चाहिए। औपचारिक पत्र में भेजने वाले का नाम सबसे अंत में और जिसे पत्र लिख रहे हैं उसका स्थान सबसे ऊपर आज दिनांक को भी सबसे ऊपर लिखा जाता है।

2 aupcharik Patra में अभिवादन

औपचारिक पत्र लिखते समय आप पत्र लिखने वाले की उम्र और योग्यता के अनुसार अभिवादन कर सकते हैं अगर आप अपने प्रिंसिपल को छुट्टी के लिए पत्र लिख रहे हैं तो आप यहां पर अच्छे और अनुशासन वाले शब्दों का इस्तेमाल करे

3 aupcharik Patra में विषय वस्तु

औपचारिक पत्र लिखते समय आपको विषय वस्तु का भी ध्यान रखना है आप स्थान पता और दिनांक के बाद विषय वस्तु में अपना विषय रख सकते हैं।

5 औपचारिक पत्र में अंत में पत्र प्राप्त करने वाले का स्थान का पता

औपचारिक पत्र के अंत में आपको उस व्यक्ति का नाम और बता लिखना होगा जिसे आप पत्र भेज रहे हैं पत्र के अंदर तो आपको व्यक्ति का पता और नाम लिखना ही होगा उसके साथ-साथ आप लिफाफे के बाहर भी व्यक्ति का नाम पता और पोस्ट कोड जानकारी लिख सकते हैं क्योंकि इससे जल्दी पत्र पहुंच जाएगा और अगर आप प्रधानाचार्य को पत्र लिख रहे हैं तो आप पत्र के अंदर ही पता लिखना होगा।

बीमारी की छुट्टी के लिए प्रार्थना पत्र – Sik leave application in hindi

Paryayvachi shabd ko paribhashit kijiye – पर्यायवाची शब्द की परिभाषा

जानिए भाषा कितने प्रकार की होती है

Formal letter औपचारिक पत्र लिखने का तरीका – औपचारिक पत्र कैसे लिखा जाता है?

औपचारिक पत्र लिखने का एक तरीका होता है। आप इस पत्र को बिना फॉर्मेट के अनुसार लिख नहीं सकते क्योंकि अगर आप बिना फॉर्मेट के लिखेंगे तो आप बहुत सारी गलतियां कर सकते हैं।

1 औपचारिक पत्र लिखते समय आपको सबसे ऊपर सेवा में, उसके बाद पद के अनुसार संबोधन और अधिकारी और संस्था का नाम लिखें।

2 औपचारिक पत्र लिखते समय आपको दूसरे नंबर पर पत्रिका विषय लिखना है जिस विषय पर आप पत्र लिख रहे हैं उदाहरण के लिए आप प्रधानाचार्य को अवकाश के लिए पत्र लिख रहे हैं तो आपको लिखना होगा 2 दिन के अवकाश हेतु प्रार्थना पत्र।

3 aupcharik Patra में आपको तीसरे नंबर पर संबोधन करना होता है जैसे आप महोदया, माननीय आदि शब्दों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

4 औपचारिक पत्र लिखने के बाद आपको अंत में दाएं तरफ नाम और अपने सिग्नेचर करने होंगे ताकि पता चले कि आप नहीं पत्र लिखा है।

5 aupcharik Patra के बाएं और आपको प्रेक्षक का नाम और स्थान लिखना होगा और इसके नीचे आप दिनांक भी डाल सकते हैं।

Note Formal letter in hindi औपचारिक पत्र के फॉर्मेट में अंग्रेजी और कंप्यूटर के कारण हिंदी भाषा पत्र लेखन में पहले की अपेक्षा बहुत बड़ा बदलाव आ चुका है। प्रेक्षक का नाम और दिनांक तथा पत्र प्राप्त करने वाले का पता सब बाई तरफ लिखा जाता है। अगर आप से किसी भी एग्जाम में प्रेक्षक का नाम कि जो लिखा जाता है तो आपको लिखना है कि बाएं और।

औपचारिक पत्र के प्रकार

शासकीय पत्र
अर्ध शासकीय पत्र
व्यक्तित्व पत्र
व्यवसायिक पत्र
कार्यालय आदेश पत्र
अधिसूचना
परिपत्र
अनुस्मारक

औपचारिक पत्र की विशेषता

  • औपचारिक पत्र सरकारी कामकाज के लिए प्रयोग किए जाते हैं।
  • सरकारी विभाग में इस्तेमाल किए जाते हैं।
  • औपचारिक पत्र की भाषा स्पष्ट
  • होनी चाहिए।
  • औपचारिक पत्र में संतुलित राजभाषा शब्दावली प्रयोग होता है।
  • औपचारिक पत्र में अन्य पुरुष शैली का प्रयोग किया जाता है।
  • औपचारिक पत्र में पत्रांक संख्या बाई ओर लिखी जाती है।

औपचारिक पत्र लेखन हिंदी class 6

विद्यालय में अतिरिक्त कक्षाओं में अनुपस्थिति रहने के कारण का उल्लेख करते हुए प्रधानाचार्य को पत्र

सेवा में

प्रधानाचार्य महोदय

पब्लिक स्कूल नई दिल्ली

महोदया

      सविनय निवेदन इस प्रकार है कि मैं आपके विद्यालय कक्षा 6 का छात्र हूं और मैंने अपने पिछले महीने की कड़ी तथा अंग्रेजी की विषय की जो अतिरिक्त कक्षाएं लगाई थी मैं आपसे उन में अनुपस्थित ना होने के कारण आपसे क्षमा मांगता हूं महोदया अचानक से मेरी तबीयत गंभीर रूप से खराब हो चुकी थी और इसी कारण मुझे 3 दिन का अवकाश लेना पड़ा और इस स्थिति में अब तक सूचना भी नहीं पहुंचा पाया जिसके लिए मैं प्रायः क्षमा मांगता हूं

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य

 पीयूष अरोड़ा

औपचारिक पत्र हिंदी class 8

क्षेत्र में बढ़ रही गुंडागर्दी के विरोध में कार्रवाई करने का आग्रह करते हुए थाना अध्यक्ष को पत्र

थानाध्यक्ष महोदय

थाना विवेक विहार

नई दिल्ली 95

दिनांक 10-06-2022

विषय क्षेत्र में बढ़ती गुंडागर्दी के संबंध में

महोदया,

सविनय निवेदन इस प्रकार है कि मैं विवेक विहार के सिवा खंड का निवासी हूं और इस पत्र के द्वारा मैं आपका ध्यान अपने क्षेत्र में बढ़ रही गुंडागर्दी की ओर दिलाना चाहते हो पिछले दिनों रोड के किनारे लोग एक दूसरे को मारते पीटते और लोगों को परेशान करते हुए दिख रहे हैं जिससे सभी का घर से निकलना मुश्किल हो गया है तथा क्षेत्र में डर का माहौल बंद हो चुका है।

रात के समय सीना जो पट्टी तथा लूटमार घटनाएं होती रहती है जिससे अपने काम से लौटते लोग अपने घरों को आने में डरते हैं। आपसे विनम्र प्रार्थना है कि इस संबंध में तुरंत जांच करवाई जाए खेत में तैनात पुलिसकर्मी भी इन बदमाशों को नहीं रोकते हैं ऐसे में कर्मचारियों के विरुद्ध पे कार्रवाई की जाए तथा क्षेत्र में शांति का फैलाई जाए और जिससे क्षेत्र में असामाजिक तत्वों से छुटकारा पाया जा सके।

धन्यवाद

भावदीप

क,ख, ग

औपचारिक पत्र हिंदी class 9

बुखार से पीड़ित होने पर 2 दिन के अवकाश के लिए प्रधानाचार्य को पत्र।

सेवा में

प्रधानाचार्य महोदय

पब्लिक स्कूल नैनीताल

विषय बुखार से पीड़ित होने पर 2 दिन का अवकाश।

सविनय निवेदन इस प्रकार है कि मैं कक्षा 9वी का स्टूडेंट हूं और 1 हफ्ते से मैं बुखार से पीड़ित हूं। महोदय आपसे निवेदन है कि मुझे 2 दिन के इलाज के विद्यालय से 2 दिन का इलाज चाहिए ताकि मैं जल्दी सही हो जाओ और विद्यालय आ सकूं।

महोदय आपसे निवेदन है कि मुझे अवकाश प्रदान करने की कृपा करें मैं आपका बहुत आभारी रहूंगा।

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य

मयंक जोशी

कक्षा 9

रोल नंबर 25

दिनांक 11-60-2022

औपचारिक पत्र लेखन हिंदी class 10 2022

अपने क्षेत्र में डाकघर खुलवाने के संबंध में आग्रह करते हुए दूरसंचार मंत्रालय को पत्र लिखिए

प्रेषक

महेश वर्मा

प्रताप नगर

प्रताप नगर नई दिल्ली

सेवा में

मंत्री महोदय

दूरसंचार मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली

विषय डाक घर खुलवाने के संबंध में

महोदया

 इस पत्र के माध्यम से मैं आपका ध्यान प्रतापनगर अपने खे में डाकघर ना होने के कारण यहां के निवासियों को होने वाली असुविधा की ओर आकर्षित कर आना चाहता हूं। महोदय निवेदन है कि प्रताप नगर एक ऐसा क्षेत्र है जहां डाकघर नहीं है। इस कारण यहां के निवासियों को डाक संबंधी कामों के लिए बहुत दूर जाना पड़ता है महिलाएं तथा बड़ी उम्र के व्यक्तियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। यदि हमारे क्षेत्र में भी डाकघर खुल जाए तो हमारे वहां के निवासी भी डाकघरों में उपलब्ध सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।

अतः महोदय से निवेदन है कि आप इस समस्या पर जल्द से जल्द विचार करें और डाकघर खुलवाने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दें।

धन्यवाद 

भवदीय

औपचारिक पत्र लेखन हिंदी class 7

परिवहन विभाग को अपनी कॉलोनी के बाहर बस स्टॉप बनवाने के लिए एक औपचारिक पत्र लिखें

निदेशक

दिल्ली परिवहन निगम,

सिंधिया हाउस

नई दिल्ली

दिनांक 22-060-2022

विषय क्षेत्र में नया बस स्टॉप बनवाने के लिए

महोदया

मैं पुरी नगर का निवासी हूं इस पत्र के द्वारा मैं अपने क्षेत्र के लोगों की समस्या की ओर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं हमारी कॉलोनी की आस पास कोई भी बस शौक नहीं है जिससे बस पकड़ने के लिए लगभग 4 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है और कार्यालय जाने वाले तथा स्कूल जाने वाले विद्यार्थी लेट हो जाते हैं और अक्सर और बुजुर्ग और महिलाएं को भी इस दिक्कत का सामना करना पड़ता है। आसपास के क्षेत्र में केवल वही स्टॉप होने से वहां भीड़ भी काफी हो जाती है।

महोदय आपसे अनुरोध है कि क्षेत्र निवासियों की समस्या को ध्यान में रखते हुए आप हमारी कॉलोनी के बाहर नया बस स्टॉप बनवाने दे के बाहर सड़क भी चौड़ी है तथा आसपास बाजार भी नहीं है जिससे नया बस स्टॉप बनाने के बाद जाम लगने की समस्या सामने नहीं आएगी। पूर्ण विश्वास है कि आप हमारी प्रार्थना पर ध्यान देंगे।

 धन्यवाद

भवदीय

क ,ख

किसी गांव में समाज सेवा के लिए जाने हेतु प्रधानाचार्य से अनुमति मांगते हुए पत्र

श्रीमान प्रधानाचार्य जी

विद्या निकेतन विद्यालय

शालीमार बाग दिल्ली

दिनांक 25-6-2022

महोदया

मैं आपके विद्यालय की दसवीं कक्षा का छात्र हूं तथा अपनी कक्षा के सभी विद्यार्थियों की ओर से हां पत्र लिख रहा हूं मासी दूसरे शनिवार को निकट किसी गांव में समाज सेवा करने के लिए जाना चाहते हैं इससे एक तो हमें गांव की समस्याओं के बारे में जानने के लिए अवसर मिलेगा साथ ही उनके साथ समय बिता कर नए अनुभव प्राप्त किए जा सकते हैं। हम सभी छात्र गांव की लोगों को स्वच्छता शिक्षा बाल विकास टीकाकरण आदि का महत्व से नुक्कड़ नाटक के द्वारा अवगत कराना चाहते हैं। इस संबंध में हमने अपनी आचार्य से भी बात की है और भी सभी तैयार हैं हमें केवल आपके मार्गदर्शन विस्तृत योजना तथा अनुमति की आवश्यकता है। महीने की दूसरी शनिवार तू विद्यालय की छुट्टी रहती है इसलिए पढ़ाई में भी कोई बाधा नहीं आएगी आशा है कि आप हमारी इच्छा को समझते हुए अनुमति प्रदान करेंगे आपकी अति कृपा होगी।

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य

मोहन सिंह

औपचारिक पत्र लेखन हिंदी Class 11

विद्यालय में एनसीसी परीक्षण को अनिवार्य करने के संबंध में शिक्षा मंत्री को पत्र लिखिए

सेवा में
शिक्षा मंत्री उत्तराखंड सरकार
देहरादून सचिवालय
उत्तराखंड
दिनांक
विषय जीसी के परीक्षण को अनिवार्य किए जाने के संबंध में।
महोदया
इस पत्र के माध्यम से मैं आपका ध्यान सभी विद्यालयों में एनसीसी के परीक्षण को अनिवार्य करने की ओर से मांग करती हूं।
आज विद्यार्थी मेधावी होकर भी शरीर से इतने बलिष्ठ नहीं होते हैं। भी मात्र पढ़ने लिखने में लगे रहते हैं इसी कारण उनका शरीर दुर्लभ और अशक्त होता है ऐसी में विद्यालय में यदि एनसीसी का परीक्षण अनिवार्य कर दिया जाए तो सभी विद्यार्थी शारीरिक रूप से सुदृढ़ होंगे। साथी एनसीसी का परीक्षण उन्हें अनुशासित एवं देश प्रेम की भावना से युक्त भी करेगा।
मुझे विश्वास है कि आप मेरे सुझाव पर गंभीरता से विचार करेंगे और रास्ते क्या गेट को निदेशक से संपर्क करने करके सभी विद्यालयों को आवश्यक निर्देश जरूर देंगे।
धन्यवाद।
भवदीय
क, ख़,ग।
aupcharik patra in hindi class 11

सेवा में
शिक्षा मंत्री उत्तराखंड सरकार
देहरादून सचिवालय
उत्तराखंड
दिनांक

विषय जीसी के परीक्षण को अनिवार्य किए जाने के संबंध में।

महोदया
इस पत्र के माध्यम से मैं आपका ध्यान सभी विद्यालयों में एनसीसी के परीक्षण को अनिवार्य करने की ओर से मांग करती हूं।

आज विद्यार्थी मेधावी होकर भी शरीर से इतने बलिष्ठ नहीं होते हैं। भी मात्र पढ़ने लिखने में लगे रहते हैं इसी कारण उनका शरीर दुर्लभ और अशक्त होता है ऐसी में विद्यालय में यदि एनसीसी का परीक्षण अनिवार्य कर दिया जाए तो सभी विद्यार्थी शारीरिक रूप से सुदृढ़ होंगे। साथी एनसीसी का परीक्षण उन्हें अनुशासित एवं देश प्रेम की भावना से युक्त भी करेगा।

मुझे विश्वास है कि आप मेरे सुझाव पर गंभीरता से विचार करेंगे और रास्ते क्या गेट को निदेशक से संपर्क करने करके सभी विद्यालयों को आवश्यक निर्देश जरूर देंगे।

धन्यवाद।
भवदीय
क, ख़,ग।

Formal letter in hindi video

FAQ

औपचारिक पत्र और उदाहरण क्या है?

औपचारिक पत्र का उदाहरण प्रधानाचार्य को अवकाश के लिए लिखने वाला पत्र है।

औपचारिक पत्र और आधिकारिक पत्र समान होता है या नहीं?

औपचारिक पत्र और आधिकारिक पत्र दोनों ही समान होते हैं।

conclusion

Formal letter in hindi के बारे में जानकारी मिल चुकी है अब आप बहुत ही आसानी से और सरल शब्दों में औपचारिक पत्र को लिख सकते हैं क्योंकि अब आपको इसका फॉर्मेट पता लग चुका है अब आप अपनी एग्जाम में औपचारिक पत्र में पूरे 10 में से 10 नंबर ला सकते हैं।

Leave a Comment